Monday, March 4, 2024

Latest Posts

इन 8 आयुर्वेदिक दवाओं के सेवन से बनाए अपनी सैक्स लाइफ बेहतर

इस आर्टिकल को शुरू करने से पहले सबसे पहले ये जानना जरूरी है, कि वास्तव में सैक्स पावर क्या होती है। जैसे कि नाम से ही अनुभव हो रहा है, सैक्स + पावर। अर्थात संभोग ऊर्जा। अर्थात संभोग करते समय जो ऊर्जा चाहिए होती है, उसको सैक्स पावर कहा जाता है।

संभोग के समय पुरुष कि शारीरिक और मानसिक दोनों उरजायें प्रयोग होती हैं। और अगर किसी कारण वश ये ऊर्जा पूरी तरह नहीं मिल पाती है, तो सैक्स क्रिया सर्वश्रेष्ट तरीके से नहीं हो पाती है। और पुरुष, स्त्री और अपनी दोनों की ही इच्छा की पूर्ति करने में विफल हो जाता है।

Also read

TESTOSTERON KYA HOTA HAI – कैसे लिंग मे तनाव बढ़ाता है ये हॉर्मोन

पत्थर जैसा सख्त खड़ा करने का पुराना फार्मूला

संभोग के लिए ये ऊर्जा पुरुष हॉर्मोन टेस्टोस्टेरॉन संतुलित करता है, और अगर किसी कारणवश टेस्टोस्टेरॉन का सिक्रीशन कम हो जाए, तो शरीर शारीरिक और मानसिक रूप से कमज़ोर होने लगता है, और संभोग के समय विभिन्न प्रकार से मिलने वाली ऊर्जा कम हो जाती है, जिसकी वजह से लिंग में ढीलापन आ जाता है, वीर्य जल्दी निकल जाता है, और पुरुष का समागम का मन भी नहीं करता है।

सैक्स पावर बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवाएं

टेस्टोस्टेरॉन संभोग के समय लिंग में उत्तेजना की रासायनिक क्रिया को संचालित करता है, तंत्रिका तंत्र को शक्ति देता है, ताकि वीर्य देर से निकले। मासपेशियों और हड्डियों को मज़बूत करता है, ताकि पुरुष संभो के समय अपनी पूरी शक्ति का प्रयोग कर सके।

टेस्टोस्टेरॉन पाचन तंत्र को शक्तिशाली बनाता है, ताकि stomach, intestine, liver ठीक से काम कर सकें, और प्रजनन तंत्र को पर्याप्त मात्रा में पोषण प्रदान कर सकें। और वीर्य पुष्ट रह सके। जितना वीर्य पुष्ट रहेगा, उतना ही संभोग के समय वीर्य देर से निकलेगा, और धात जैसी समस्याएं नहीं होंगी।

तो आयुर्वेदिक दवाओं का जो मैं फोकस होता है, वो होता है, पुरुष हॉर्मोन के सिक्रीशन को बढ़ाना। इस पोस्ट में हम उन्ही दवाओं का जिक्र करेंगे।

तो दोस्तों चलिए शुरू करते हैं।

1. गोखरू (Tribulus Terrestris)

गोखरू जो प्राचीन आयुर्वेदिक ग्रंथों में उद्धृत है, अब पूरे विश्व में सैक्स पावर बढ़ाने के लिए प्रयोग किया जाता है। आधुनिक शोधों में ये बात पूरी तरह स्पष्ट हो चुकी है, कि गोखरू के बीज के पाउडर का सेवन करने से पुरुष हॉर्मोन का सिक्रीशन बढ़ जाता है। अर्थात गोखरू एक नैच्रल टेस्टोस्टेरॉन बूस्टर जड़ी बूटी है। जिसका कोई साइड इफेक्ट नहीं है।

खुराक – 2 से 3 ग्राम गोखरू पाउडर पानी में उबालकर छानकर दिन में दो बार सेवन करें।

2. काली मूसली – Curculigo Orchioides

काली मूसली का भूमिगत तना (rhizome) सुखाकर इसका चूर्ण बनाकर medicine के रूप में प्रयोग किया जाता है। ये जड़ी बूटी भी एक प्राकर्तिक टेस्टोस्टेरॉन बूस्टर है, और पुरुषों की यौन क्षमता बढ़ाने में अहम भूमिका अदा कर सकती है। काली मूसली पर भी रिसर्च हुई हैं, और पाया गया है, कि ये दवा रक्त में फ्री टेस्टोस्टेरॉन की मात्रा बढ़ा सकती है।

खुराक – 2 ग्राम काली मूसली पाउडर सुबह शाम दूध के साथ या खाना खाने के बाद ले सकते हैं।

3. हॉर्नी गोट वीड – epimedium grandiflorum

ये एक विदेशी जड़ी बूटी है, जो भारतीय उपमहाद्वीप में नहीं पाई जाती है। इसको चाइना आदि देशों जहां ये पैदा होती है वहाँ से पूरे विश में आयात किया जाता है।

हॉर्नी गोट वीड या बिशप हैट आदि नामों से जाने वाली ये सजावटी पौधा मेल ऑर्गन में आई कमज़ोरी को दूर करने में अद्भुत भूमिका निभा सकता है। अगर दुनिया भर के विभिन्न doctors की माने, और शोधों पर भी गौर करें, तो ये जड़ी बूटी उस रसायन के प्रभाव को कम करती है, जो लिंग में तनाव लाने की क्रिया को बाधित करता है। इस तरह ये एक प्राकर्तिक वायग्रा का कार्य करती है। हॉर्नी गोट वीड PDE5 एन्ज़ाइम का निकलना कम करती है, और यही एन्ज़ाइम होता है, जो cGMP और नाइट्रस आक्साइड की क्रिया विधि को बाधित करके इरेक्शन mechanism को negatively इम्पैक्ट करता है।

खुराक – 500 miligram leaf powder दिन में दो बार

4. मैका की जड़ Maca Root

मैका की जड़ के बारे में नेटिव अमेरिकन इंका सभ्यता के लोगों के अनुसार सैक्स stamina बढ़ाने की अद्भुत शक्ति होती है। हालांकि ये जड़ी बूटी टेस्टोस्टेरॉन के सिक्रीशन पर कोई प्रभाव नहीं डालती है, लेकिन ये शरीर में कुछ ऐसे रासायनिक परिवर्तन करती है, कि स्त्री और पुरुष दोनों की ही कामोत्तेजना बढ़ जाती है। मैका रूट का इस्तेमाल एक बल वर्धक टॉनिक के रूप में भी किया जाता रहा है।

खुराक – 1 ग्राम मैका रूट पाउडर रोज़ाना लिया जा सकता है। अधिक जानकारी के लिए आप किसी चिकित्सक से संपर्क करें।

5. सफेद मूसली Chlorophytum Borivilianum

सफेद मूसली आयुर्वेद में एक प्रबल वाजीकर औषधि मानी जाती है, जिसका प्रयोग आदिकाल से पुरुषों में संभोग शक्ति बढ़ाने के लिए किया जाता है। सफेद मूसली मे पाए जाने वाले रसायन कुछ ऐसा ही प्रभाव उत्पन्न करते हैं, जैसा पुरुष हॉर्मोन करता है। इसके प्रयोग से इरेक्शन अच्छा आता है, कामोत्तेजना बढ़ती है, और पुरुष संभोग में अधिक समय तक पर्फॉर्म कर पाता है।

खुराक – 1 से 2 ग्राम सफेद मूसली रोज़ाना ली जा सकती है। अधिक जानकारी के लिए किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक से संपर्क करें

6. कटुवाबा Catuaba

कटुवाबा असल में एरिथ्रो ज़ाइलम वैक्सीनिफोलियम नाम के पेड़ की छाल से तय्यार किया जाता है। अगर ब्राजीलियन traditional medicine की माने तो पुराने समय से ही कटुआबा का इस्तेमाल पुरुषों की यौनवर्धक दवा के रूप में किया जाता रहा है। इसका प्रयोग करने से पुरुषों में कामोत्तेजना बढ़ जाती है।साथ ही साथ इसका इस्तेमाल erectile dysfunction, सेक्शुअल weakness जैसी दूसरी male problems में भी किया जाता है।

7. दमियाना (Damiana)

दमियाना एक चाइनीज जड़ी बूटी है, जिसकी पत्तियां दवा के तौर पर प्रयोग की जाती हैं। दमियाना का प्रयोग एक aphrodisiac के तौर पर प्रयोग किया जाता है, जो पुरुषों में कामोत्तेजना बढ़ाता है। दमियाना एक मूड elevetar का काम करता है, और जिन पुरुषों का संभोग का मन ही नहीं करता है, और जिसकी वजह से उन्मे अस्थायी रूप से erectile dysfunction कि समस्या हो जाती है, उनके लिए दमियाना काफी लाभकारी साबित हो सकती है।

खुराक – 1 से 2 ग्राम दमियाना दिन में दो बार पानी में उबालकर ली जा सकती है।

Latest Posts

Don't Miss