Monday, March 4, 2024

Latest Posts

Black Musli Health Benefits, Dosage, Side effects in Hindi – Kali Musli Khane ka Tarika

मूसली का नाम तो अपने सुना ही होगा। लेकिन मूसली नाम से अधिकतर सफेद मूसली का ही आभास होता है। क्योंकि सफेद मूसली ही ज़्यादातर प्रचलित होती है, और ये सबसे महंगी भी होती है। लेकिन आपको शायद जानकार हैरानी हो, मूसली आयुर्वेद की भाषा में 2 पौधों से प्राप्त होती है।

मूसली दो तरह की होती है।

  • सफेद मूसली (Chlorophytum Borivilianum) 
  • और काली मूसली (Curculigo Orchioides)

दोनों ही तरह की मूसली का प्रयोग आयुर्वेद और यूनानी दवाओं में पुरुषों की शारीरिक दुर्बलता दूर करने के लिए किया जाता है। पुरुषों की विभिन्न सैक्स समस्याओं जैसे erectile dysfunction, premature ejacualtion, spermatorrhoea और lack of libido जैसी समस्याओं में इन जड़ी बूटियों का इस्तेमाल बड़े पैमाने पर होता आ रहा है। 

इस पोस्ट में हम काली मूसली के फायदे, इस्तेमाल करने का तरीका, इसका कौन स भाग दवा के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है, इन सभी पर शॉर्ट में आपको बताएंगे। और साथ में हम इसके पॉसिबल साइड इफेक्ट क्या हो सकते हैं, इस बारे में भी चर्चा करेंगे। 

काली मूसली को english me Curculigo Orchioides बोला जाता है, जो एक छोटा सा पौधा होता है। ये पौधा खासतौर से asian subcontinent, nepal, japan, china और कुछ दूसरे देशों में मिलता है। 

अलग अलग भाषाओं में इसके कुछ दूसरे नाम भी हैं। जैसे गोल्डन आई grass, श्यान माओ, वीवल वर्ट etc..

काली मूसली का भूमिगत तना जो कि जड़ जैसा दिखता है, दवा के तौर पर प्रयोग किया जाता है। भूमिगत तना जड़ों का भी उत्पादन करता है। किसी भी पौधे के भूमिगत तने को इंग्लिश में rhyzome बोला जाता है। 

काली मूसली के फायदे Benefits of Black Musli

guys। अब हम बात करते हैं, काली मूसली से होने वाले फ़ायदों के बारे में। 

काली मूसली प्राचीन काल से ही विभिन्न आयुर्वेदिक शास्त्रीय योगों में वाजीकरण के लिए इस्तेमाल की जाती रही है। 

काली मूसली खासतौर से कामेच्छा बढ़ाने और नपुंसकता के उपचार में प्रयोग की जाती है। Researches में भी ये बात clear हो चुकी है। कि काली मूसली को अगर सही मात्रा में लिया जाए तो ये पुरुष हॉर्मोन का सिक्रीशन बढ़ा सकती है।

Male rates ko जब काली मूसली की एक निर्धारित मात्रा दी गई, तो उनके शरीर में फ्री टेस्टोस्टेरॉन की मात्रा बढ़ी हुई पाई गई।

तो दोस्तों, डाल लेते हैं, काली मूसली से होने वाले फ़ायदों पर एक नज़र

Black Musli helps cure Erectile Dysfunction

काली मूसली erectile dysfunction में काफी फायदेमंद है, और इसका अगर ठीक तरीके से इस्तेमाल किया जाए, तो इससे मेल ऑर्गन मे स्टिफनेस यानि कि कठोरता आती है। और उसमे blood circulation बढ़ता है। जितना मेल ऑर्गन मे ब्लड ज़्यादा जाता है। उतना ही वो उत्तेजना के समय साइज़ में बढ़ जाता है। तो इस तरह काली मूसली नपुंसकता ये ed जैसी बीमारी से जूझ रहे पुरुषों के लिए काफी फायदे मंद है।

Black Musli increases libido in Men

काली मूसली, मेल हॉर्मोन का सिक्रीशन बढ़ा सकती है। जिससे सेक्शुअल डिज़ाइअर बढ़ती है। और जिन मर्दों में सेक्शुअल urge की कमी की वजह से, acute erectile dysfunction की problem पैदा हो जाती है। वो ठीक हो जाती है।

Black Musli helps cure Premature Ejaculation triggered by Performance

काली मूसली एक ज़बरदस्त adaptogen है। और शरीर को तनवमुक्त रखने में मदद करता है। इस तरह ये उन लड़कों के लिए काफी फायदेमंद है, जो संभोग करते समय इस बात से घबराते हैं, कि पता नहीं वो अपने साथी को satisfy कर पाएंगे या नहीं। इस तरह से शीघ्र स्खलन या शीघ्रपतन में ये दवा काफी उपयोगी है।

काली मूसली एक natural testosterone booster है। टेस्टोस्टेरॉन पुरुषों में शरीर के विकास में काफी अहम भूमिका अदा करता है, जैसे muscle and bone development, और शरीर के विकास को गति देने वाली क्रियाओं को संतुलित रखना। काली मूसली का सही इस्तेमाल पुरुषों की मासपेशियों को सुदृढ़ करता है, और हड्डियों को मजबूत बनाता है। जो लड़के वर्काउट या शारीरिक मेहनत के काम करते हैं, उनके लिए भी काली मूसली काफी फायदेमंद साबित हो सकती है।

Black Musli treats Male Infertility

काली मूसली का सही इस्तेमाल करने से मेल इंफर्टिलिटी ठीक होने मे मदद मिलती है। काली मूसली पुरुषों में शुक्राणु संख्या या sperm count बढ़ाती है। वीर्य की गुणवत्ता को बढ़ाती है, और धात जैसी परेशानियों को दूर करती है।

इसके अलावा काली मूसली दूसरे कई तरह के रोगों में इस्तेमाल होती है।

जैसे

  • श्वास संबंधी परेशानियों में जैसे खांसी, दमा, और सांस लेने में परेशानी होना
  • painful micturition यानि पेशाब में जलन होने में
  • piles ट्रीट्मन्ट, indigestion, loss of appetite, diarrhea आदि रोगों में भी इसको इस्तेमाल किया जाता है।

Kali Musli Dosage काली मूसली की खुराक और इस्तेमाल करने का तरीका

अब बात करते हैं, काली मूसली को कैसे प्रयोग करना चाहिए और इसकी स्टैन्डर्ड डोस कितनी होती है।

जैसा कि मैं पहले ही बता चुकी हूँ, काली मूसली का भूमिगत तना, जो कि एक तरह से जड़ जैसा ही होता है, उसको सुखाकर उसका पाउडर बनाकर मेडिसिन की फॉर्म में यूस किया जाता है।

इसकी स्टैन्डर्ड डोस 3 से 5 ग्राम, दूध के साथ रोज़ाना लेनी होती है। हालांकि दवा की मात्रा लिंग, आयु, वज़न, और मेडिकल कन्डिशन के आधार पर निर्धारित की जाती है। और अगर आपका वज़न कम या ज़्यादा है, और आपको कोई स्वास्थ्य समस्या है, तो डॉक्टर के परामर्श के बाद ही कोई भी दवा लेनी चाहिए।

Side Effects of Black Musli काली मूसली के नुकसान

अगर बात साइड इफेक्ट की की जाए, तो आपको जानकार खुशी होगी, कि काली मूसली का अभी तक कोई remarkable side effect सामने नहीं आया है। और इसको निरंतर लिया जा सकता है।

Latest Posts

Don't Miss